Saturday, January 22, 2011

" इन्तजार "

चांद मद्धम है   आस्मां   चुप   है ,
नींद की गोद   में जहां   चुप   है ।



दूर   वादी     में     दूधिया    बादल
झुक के पर्वत को प्यार करते हैं,
दिल में नाकाम हसरतें ले   कर 
हम   तेरा   इन्तजार   करते   हैं ।



इन   बहारों के  साये   में    आ   जा 
फिर   मोहब्बत    जवां   रहे   न   रहे 
ज़िन्दगी      तेरे      नामुरादों      पर 
कल    तलक़    मेहरबां   रहे   न   रहे  ।



रोज़   की    तरह     आज    भी     तारे 
सुबह    की    गर्द    में    न   खो जाएं
आ   तेरे     ग़म    में   जागती    आंखें
कम से कम एक रात तो सो जाएं।



चांद   मद्धम   है   आस्मां   चुप    है ,
नींद   की   गोद   में   जहां चुप   है ।



         साभार  : साहिर लुधियानवी   

1 comment:

  1. bahut sunder collections hain saari ghazal acchi lagi

    ReplyDelete