Saturday, April 23, 2011

हुए क्यों उस पे आशिक़ ........

हुए  क्यों  उस  पे आशिक़ हम अभी से 
लगाया जी  को  नाहक  ग़म  अभी  से 

दिला रब्त१ उससे रखना कम अभी से 
जता  देते   हैं  तुझ  को  हम   अभी  से 

तिरे बीमारे-ग़म के हैं जो ग़म - ख्वार२
बरसता   उन  पे  है  मातम   अभी  से 

तुम्हारा  मुझ  को  पासे - आबरू३  था
वगर्ना   अश्क़    थम  जाते  अभी   से 

मरा  जाना  मुझे   ग़ैरों   ने   ऐ   ज़ौक़ 
कि  फ़िरते  हैं  खुशो-खुर्रम४  अभी  से 
          साभार :ज़ौक़ 
.................................................................................................................................................................
१-सम्बन्ध 
२सहाभूतिकर्ता 
३इज़्ज़त का ख्याल 
४-अत्यन्त प्रसन्न  

20 comments:

  1. its warning..........but very beautiful

    ReplyDelete
  2. अच्छी प्रस्तुति
    आशा

    ReplyDelete
  3. "तुम्हारा मुझ को पासे - आबरू था
    वगर्ना अश्क़ थम जाते अभी से "

    किसी के लिखे ज़ज्बात लेकिन
    कोई भी समय हो सभी के लिए
    सही उतर जाते हैं...!!

    ReplyDelete
  4. शैली हिंदुस्तानी जबां की हो तो आनंद द्विगुणित हो जाए।

    ReplyDelete
  5. namaskar ji
    blog par kafi dino se nahi aa paya mafi chahata hoon

    ReplyDelete
  6. मुक़र्रर ......मुक़र्रर

    ReplyDelete
  7. मन को छू गयी यह रचना ....हार्दिक शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  8. तुम्हारा मुझ को पासे - आबरू था
    वगर्ना अश्क़ थम जाते अभी से "

    bahut khoob...aankh gar nam ho to siyahi ho jati hai aur dil kalam ho uthta.

    ReplyDelete
  9. निवेदिता जी
    सादर अभिवादन !

    संकलन में आप द्वारा प्रस्तुत रचनाओं के लिए आभार और दिली मुबारकबाद !
    ज़ौक़ की प्रस्तुत ग़ज़ल भी बेहद पसंद आई …
    तुम्हारा मुझ को पासे - आबरू था
    वगर्ना अश्क़ जाते थम अभी से


    मेरी ताज़ा पोस्ट पर इसी बह्र में ग़ज़ल लगी है … लेकिन एकदम अलग मिज़ाज की ; समय मिले तो नज़रे-इनायत कर लीजिएगा …
    हार्दिक शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  10. ज़ौक़ साहब को पढ़वाने के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बढ़िया !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान

    ReplyDelete
  12. बढिया है। बहुत बढिया

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब । जौंक जी की यह गज़ल पढवाने का आभार ।

    ReplyDelete
  14. किधर से शुरू करून, किधर से ख़तम करून |
    जिन्दगी का फ़साना, कैसे तेरी नज़र करून |
    है ख्याल जिन्दगी का, कैसे मुनव्वर करून |
    मगरिब के जानिब खड़ा, कैसे तसव्वुर करून |

    ReplyDelete
  15. सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    जौंक साहब का अंदाज ही निराला है.

    ReplyDelete
  16. मन को छूने वाली सुन्दर प्रस्तुति ..मेरे ब्लांग में आने के लिये आभार..

    ReplyDelete
  17. कल 27/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete