Thursday, August 4, 2011

इबादत ........ .

इबादत  करते  हैं जो  लोग जन्नत  की तमन्ना में 
इबादत तो  नहीं  है  इक  तरह  की  वो तिजारत है 

जो डर कर  नारे -  दोज़ख़ से खुदा  का नाम लेते हैं 
इबादत क्या वो ख़ाली बुजदिलाना एक ख़िदमत है 

मगर जब शुक्रे-नेमत में जबीं झुकती  है बन्दे की 
वो  सच्ची  बन्दगी  है , इक  शरीफ़ाना  इताअत है 

कुचल  दे  हसरतों  को  बेनियाज़े  - मुद्दुआ  हो  जा 
ख़ुदी को६ झाड़  दे  दामन से मरदे - बाखुदा हो  जा 

उठा  लेती  हैं  लहरें  तहनशीं  होता  है जब   कोई
उभरना है  तो  ग़र्के - मौजे -  बहरे -  फ़ना  हो  जा९  

                                                    -जोश मलीहाबादी  
...........................................................................................................................................
१ :नरक की आग से
२ :धन्यवाद स्वरूप 
३ :माथा 
४:आराधना 
५ :फल प्राप्ति के प्रति विमुख 
६ :अहं को 
७ :ख़ुदा का बन्दा 
८ :डूब जाता है 
९ :अनस्तित्व रूपी सागर की लहरों में डूब जा  
इबादत 
  

5 comments:

  1. वाह जी,
    क्या बात है

    कुचल दे हसरतों को बेनियाज़े - मुद्दुआ५ हो जा
    ख़ुदी को६ झाड़ दे दामन से मरदे - बाखुदा७ हो जा

    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर्।

    ReplyDelete
  3. waah.... bhaut hi sundar prstuti...

    ReplyDelete
  4. एक बहुत अच्छी रचना पढवाई आपने।

    ReplyDelete
  5. सच्ची इबाबत का सन्देश देती अर्थपूर्ण रचना..

    ReplyDelete