Wednesday, October 10, 2012

तप रे !

तप रे , मधुर-मधुर मन !

विश्व-वेदना में तप प्रतिपल ,
जग-जीवन की ज्वाला में गल ,
बन अकलुष ,उज्ज्वल औ कोमल 
तप रे ,विधुर-विधुर मन !

अपने सजल-स्वर्ण से पावन 
रच जीवन की मूर्ति पूर्णतम 
स्थापित कर जग में अपनापन ,
ढल रे , ढल आतुर मन !

तेरी मधुर मुक्ति ही बंधन 
गंध-हीन तू गंध-युक्त बन 
निज अरूप में भर स्वरूप , मन 
मूर्तिमान बन निर्धन !
गल रे , गल निष्ठुर मन ! 
                 -सुमित्रानन्दन पन्त 


8 comments:

  1. पन्त जी की कविता पढवाने के लिए आभार . कविता के बारे में कुछ कहना सूरज को दीपक दिखाने जैसा होगा .

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत..........

    शुक्रिया निवेदिता.
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. पंत जी को पढ़ना ऐसा लगता है कि आज के संदर्भ मे लिखी गई है।
    बहुत सुंदर रचना है।

    विश्व-वेदना में तप प्रतिपल ,
    जग-जीवन की ज्वाला में गल ,
    बन अकलुष ,उज्ज्वल औ कोमल
    तप रे ,विधुर-विधुर मन !

    आपका आभार पंत जी की याद ताजा कराने के लिए

    ReplyDelete
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  5. उत्कृष्ट प्रस्तुति...आभार

    ReplyDelete
  6. पंत जी की रचना से साक्षात्कार करवाने के लिए आभार |

    नई पोस्ट:- ओ कलम !!

    ReplyDelete
  7. इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति के लिए आभार

    ReplyDelete