Sunday, January 5, 2014

अमित श्रीवास्तव ....... " केहि विधि प्यार जताऊं ..........."




कबहुँ आप हँसे ,
कबहुँ नैन हँसे ,
कबहुँ नैन के बीच ,
हँसे कजरा  ।

कबहुँ टिकुली सजै ,
कबहुँ बेनी सजै ,
कबहुँ बेनी के बीच ,
सजै गजरा । 

कबहुँ चहक उठै ,
कबहुँ महक उठै ,
लगै खेलत जैसे,
बिजुरी औ बदरा । 

कबहुँ कसम धरें ,
कबहुँ कसम धरावै ,
कबहूँ रूठें तौ ,
कहुं लागै न जियरा । 

उन्है निहार निहार ,
हम निढाल भएन  ,
अब केहि विधि  ,.
प्यार जताऊं सबरा । .....   अमित श्रीवास्तव 

18 comments:

  1. अरे दी...प्यार तो इन सब के बिना भी जताया जा सकता है न :p बहुत ही सुंदर प्यार भरी प्यारी सी रचना ...:))

    ReplyDelete
  2. मन में सब सुख पाऊँ, कैसे प्यार जताऊँ

    मन को भायें, मन की बातें,
    कैसे उलझायीं हैं रातें।

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन फर्क नज़रिए का - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  5. क्या बात है...सुन्दर गीत.....
    प्यार की कोई भी परिभाषा नहीं है
    मन के भावों की कोई भाषा नहीं है |

    ReplyDelete
  6. अति सुन्दर प्रीत की गीत !
    नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
    नई पोस्ट लघु कथा

    ReplyDelete
  7. एकदम क्लासिकल अन्दाज़ है... मनभावन!!

    ReplyDelete
  8. सुकोमल सी अभिव्यक्ति रस भरी !!

    ReplyDelete
  9. कल 11/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर ! बहुत प्यारी रचना !

    ReplyDelete
  11. वाह वाह...
    बहुत ही प्यारा और बहुत ही सुन्दर गीत...
    :-)
    http://mauryareena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete